Subscribe Us

जय  गणेश  देवा



✍️अशोक 'आनन' 

 

जय गणेश !  जय गणेश !!  जय गणेश देवा !!!

जनता  सारी  भूख़ी  मरे  ;  गधे   खाएं   मेवा ।

 

कुर्सी   के   खेल   में  ;

अंधे      हुए      नेता ।

वादों   की  नाव  को ;

कोई    नहीं     खेता ।

 

माॅंझी     के     बदले   ;    हुए    ज़ान    लेवा ।

जय गणेश !  जय गणेश !!  जय गणेश देवा !!!

 

एक  नहीं  ,  दो   नहीं ;

सब           भ्रष्टाचारी !

ज़ुल्म  इनके  सह रही ;

जनता            बेचारी ।

 

ग़रीबों   के   ख़ून    से   ;   ये    करें    कलेवा ।

जय गणेश !  जय गणेश !!  जय गणेश देवा !!!

 

प्यासों को लोटा देत  ;

भूख़ों    को    थाली ।

चमचों को मौका देत  ;

औरों    को    गाली ।

 

चुनावों   के   वक़्त  पर  ;  ये  करें  देश  सेवा ।

जय गणेश !  जय गणेश !!  जय गणेश देवा !!!

 

*मक्सी,जिला - शाजापुर ( म.प्र.)

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां