Subscribe Us

जलाया शमा फिर बुझाया उसे क्यूं



✍️प्रदीप ध्रुव भोपाली


जलाया     शमा     फिर    बुझाया   उसे   क्यूं।

कदम    खींचना     था     उठाया   उसे    क्यूं।

*

तुम्हारे      ही     बूते     मिरी    ज़िन्दगी  थी,

निभाने    से     पहले    मिटाया   उसे    क्यूं।

*

मिरी     हसरतों     को     दिया    आब    तुमने,

मिरी     जां    भी     थे     तुम   भुलाया  उसे  क्यूं।

*

चले     थे     तुम्हारे     सहारे   अभी   तक,

कि     पर्दा     गिरा    कर   उठाया   उसे     क्यूं।

*

अभी     सोच    लो    वक्त    जाने   से     पहले,

वो    जो     सिलसिला    था    बढ़ाया    उसे   क्यूं।

*

रुलाना     अगर     था    किसी   को    हंसाकर,

शरारत    किया    फिर   हंसाया उसे     क्यूं।

*

बड़े     चाव     से    "ध्रुव"    किया ख़ैरमक़दम,

कि    दिल    तोड़कर   आजमाया उसे    क्यूं।

*भोपाल,मध्यप्रदेश

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां