Subscribe Us

जान कर अनजान हो गए



✍️डॉ रघुनाथ मिश्र 'सहज'

जान कर अनजान हो गए।

जब से वे महान हो गए।

 

भागते ही जा रहे अबाध,

लक्ष्य भी अनुमान हो गए।

 

जो जँचेगा वो करेंगे हम,

अब यही विधान हो गए।

 

हर सुबह फँसे कोई नया,

यह नए दिनमान हो गए।

 

एकता की पीठ में छुरा,

जारी फरमान हो गए।

 

वोट के लिए बड़े-बड़े,

यज्ञ – पुण्य - दान हो गए।

 

चुनाव सर पे हैं इसी लिए,

सब कठिन आसान हो गए।

 

विशिष्ट शख्सियत की मांग पर,

आदमी  सामान  हो गए। 

 

कल तलक थे जो जमीन वे,

आज आसमान हो गए।

 

*कोटा (राजस्थान)

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां