Subscribe Us

होगी मुहब्बत इस कदर, सोचा न था



✍️आयुष गुप्ता


होगी मुहब्बत इस कदर, सोचा न था

खुद की रहेगी ना खबर, सोचा न था

 

दिल ये पुकारेगा उसे, मालूम था

आया सनम भी जिस कदर, सोचा न था

 

पाने तुझे निकले सफर में यार हम

ताउम्र का होगा सफर, सोचा न था

 

बर्बाद देखे इश्क़ में थे और भी

होगा वही हम पर असर, सोचा न था

 

वैसे नहीं हैं ग़म हमें इस बात का

वो रब्त होगा मुख्तसर, सोचा न था

 

सारा ज़माना हो गया दुश्मन मिरा

ये इश्क़ हैं ऐसा ज़हर, सोचा न था

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां