Subscribe Us

हर्षित रहना बहिना



✍️साकेत सुमन चतुर्वेदी

जहाँ रहे तू सदा सुखों से हर्षित रहना बहिना

मेरी आँखों के आँसू का सिर्फ यही है कहना 

 

    जीवन भर  सुख दुख में बहिना 

     तेरी          कमी           रहेगी

     तेरे    बिन   दुनिया में  मन से 

     भैया          कौन         कहेगी 

 

जाने किस किस में तुमको देख रहे हैं नैना 

मेरी आँखो के आँसू का सिर्फ यही है कहना

 

    मेरे    मन   की   रोती   पीड़ा 

    कोई           क्यो      पहचाने

    किसको फुरसत वैभव तजकर 

    भैया          अपना        माने 

 

स्वारथ के झूठे रिश्ते हैं ,थोड़ा प्यार मिले ना

मेरी आँखो के आँसू का , सिर्फ यही है कहना 

 

*झाँसी(उ.प्र.)

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां