Subscribe Us

विश्वास


 







✍️सुनील कुमार माथुर

अगर कोई आप पर क्रोध करता है तो

उसे समझने का प्रयास कीजिए चूंकि 

क्रोधित वे ही होते है जो

आप से प्रेम करतें है 

जैसे हर पौधें को पानी की जरूरत होती है 

उसी प्रकार हर रिश्ते को 

विश्वास की जरूरत होती है 

जीवन में लक्ष्य प्राप्ति के लिए 

कडी मेहनत करनी होतीं है और 

इसके लिए विश्वास की जरूरत होती है 

मन की अस्थिरता के कारण 

कई बार हम सही फैसला नहीं ले पाते हैं 

ऐसे वक्त में नई ऊंचाइयों को पाने के लिए 

किसी पर तो विश्वास करना ही होगा 

सदा अपने कार्य के प्रति समर्पित रहें और 

क्रोध पर नियंत्रण रखें 

मांगलिक कार्यों में शामिल हो

नयें लोगों पर विश्वास करें 

प्रभु से प्रेम करें 

अपने नजरिये को बदलें और

नई जिम्मेदारियों का निर्वाह करें 

जल्दबाजी में कोई भी कार्य न करें 

अपने अधिनस्थों पर विश्वास करें 

हंसते मुस्कुराते रहें आप हजारों के बीच

जैसे हंसते है फूल बहारों के बीच 

रोशन हो आप दुनियां में इस तरह जैसे

होता है चांद सितारों के बीच में 

लक्ष्य प्राप्ति के लिए 

कडी मेहनत करनी होगी और 

नई ऊंचाइयों को पाने के लिए 

लोगों पर विश्वास करना ही होगा 

विश्वास ही हमारी श्रेष्ठ पूंजी है 

विश्वास ही हमारी संस्कृति हैं 

विश्वास ही हमारी धरोहर है 

विश्वास ही हमारा सम्बल हैं 

*जोधपुर राजस्थान 

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 





 


 



 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां