Subscribe Us

नमन चंद्रशेखर



✍️व्यग्र पाण्डे

दैदिप्य चेहरा

मूँछों पर ताव 

कांधे जनेऊ 

रोवीले भाव

कहने में कम

करने में विश्वास 

पिस्टल की भाषा 

आती थी रास

आजाद हूँ मैं 

शत्रु को जताया

जब तक रहे 

प्रण को निभाया 

नमन चंद्रशेखर

वंदन चंद्रशेखर

ॠणी देश सारा

स्मरण चंद्रशेखर ।      

*गंगापुर सिटी,(राज.)

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां