Subscribe Us

मेरे मालिक मेरे दाता मेरे भगवान चाचा जी



*सुखवीर चौधरी

 


मेरे मालिक मेरे दाता मेरे भगवान चाचा जी,

मेरा हर गम मेरे आँसू मेरी मुस्कान चाचा जी ।

 

मेरी हस्ती मेरी पहिचान सब उनकी बदौलत है ,

करूँगा आपका हर दम ही में सम्मान चाचा जी ।

 

हमेशा आप को चाहा हमेशा आप को पूजा ,

मेरे सपने मेरी दुनिया मेरे अरमान चाचा जी ।

 

उठा कर के जमीं से आसमाँ तक ला दिया मुझ को ,

मेरी गीता व रामायण का सारा ज्ञान चाचा जी ।

 

रहा हूँ आप की परछाई बन कर के जमाने में ,

मेरी दौलत मेरी इज्ज़त मेरा ईमान चाचा जी ।

 

**मथुरा (उत्तर प्रदेश )

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 




टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां