Subscribe Us

भारतीय संस्कृति



✍️सुवर्णा जाधव

पिछड़ी संस्कृति मानकर
उसे कुछ लोग थे ठुकराते
ये क्या पिछड़ापन ?
हाथ मिलाने के बजाय
कहते हैं नमस्ते,
हाथ पाव धोकर ही
घर में है आते ।
बाहर ही निकालते जूते
जल्दी उठते
और जल्दी है सोते
खाना सिर्फ
घर का ही पसंद करते ।
साथ साथमिलजुल
कर है रहते।
कितना पिछड़ापन
कैसे हैं जीते ?
अब  कोरोना आया
सभी को भारतीय संस्कृति का
मोल समझ में आया
अब सारा विश्व कहता है
हाथ मिलाने के बजाय नमस्ते।
और सभी देखो
भारतीय संस्कृति है अपनाते।
भारतीय संस्कृति का
बखान करते अब नहीं थकते।
वसुधैव कुटुंबकम
अब सब कहते ।
पिछड़ी संस्कृति मानकर
उसे कुछ लोग थे ठुकराते ।
अब देखो सब
उसका ही गुणगान गाते।


*मुंबई

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां