Subscribe Us

बेवफ़ाई के हुनर को आज़माना  चाहिए



*राम जीन्दिया

 


बेवफ़ाई  के  हुनर को आज़माना  चाहिए।

ज़िन्दगी में इक दफ़ा दिल भी लगाना चाहिए।

 

हौंसला जब भी कभी टूटे तुम्हारा राह में

बोझ सपनों का तुम्हे खुद ही उठाना चाहिए।

 

जो मरासिम हो फ़कत मतलब का मेरे ख़्याल से

उस मरासिम को तुम्हे फिर भूल जाना चाहिए।

 

तुम जहां पर भी मुसीबत को खड़े पाओ कभी

बेझिझक तुमको न फिर यूँ लड़खड़ाना चाहिए।

 

जो कभी हो सामना अपनों से मैदां में तो फिर

यार तुमको बेवज़ह ही हार जाना चाहिए।

 

लोग तुमको हैं गिराना चाहते ये जान लोड

राज़ अपना फिर न तमको यूँ बताना चाहिए।


 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां