Subscribe Us

पेड़ कोई राह का फ़िर हरा हो जाएगा



*नवीन माथुर पंचोली

पेड़ कोई राह का फ़िर हरा हो जाएगा।

धूप में कुछ छाँह का आसरा हो जाएगा।

 

वो हमारे पास जितना आ गए तो आ गए,

फासला जितना रहेगा दायरा हो जाएगा।

 

खुल के अपनी बात कहना ये हमारी खोट है,

इक सियासी जो कहेगा सब खरा  हो जाएगा

 

ख़्वाब में जितने नज़ारे देखलें तो देखलें,

आँख देखें जो दिखेगा माज़रा हो जाएगा।

 

पेड़ -पौधे,जीव सारे जो तुम्हारे हैं सहारे,

जो सभी की फिक्र लेगा वो धरा हो जाएगा।

 

कर रहें हैं बात के जरिये सुलह की कोशिशें,

जो अमन की  रीत देगा  पैंतरा हो जाएगा।

*अमझेरा धार मप्र

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां