Subscribe Us

मेरे बादल



*संजय वर्मा 'दॄष्टि'

 

आकाश मे जाते बादल

जमीन पर गर्म हवाओं 

धूल भरी आँधियों के संग

उड़ रहे

सूखे कंठ लिए

हर कोई निहार रहा 

मानों पेड़ कह रहे 

थोड़ा विश्राम करलो

हमारे गावँ में भी

सूखे कुएं,सूखी नदियां से भी

गीत नही गाया जा रहा

धूप तेज होने से 

बेचारे पत्थरों को

चढ़ रहा बुखार

मेहंदी बिन त्योहारों के

आ धमकी पगथली औऱ हाथो में

कच्ची केरिया दे रही आहुति

तपन के इस लू के खेल में

सड़के हुई वीरान

वृक्ष बुला रहे राहगीरों को

ऒर उस पर रहने वाले रहवासियों को

वृक्ष के पत्ते

बादलो से कह रहे

जरा जल्दी आना 

बस तुम जरा जल्दी आना

ताकि मैं तुम्हें ही

गंगाजल मान कर

तुम्हारे शुद्ध जल से तृप्त हो

जीवित रह सकूँ 

जल्दी आओगें ना 

मेरे सखा बादल।

 

*मनावर जिला धार मप्र

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां