Subscribe Us

हैं यार मेरे ग़म मुझे इस बात का



*आयुष गुप्ता

हैं यार मेरे ग़म मुझे इस बात का,

मिल ना सका मुझको सिला जज़्बात का।

 

एक तो उसे दिखते न थे आँसू मिरे,

कमबख़्त मौसम भी रहा बरसात का।

 

कुछ दोस्त तो कुछ शौक हैं दिन के लिए,

मसला नहीं दिन का सनम, हैं रात का।

 

ये ज़िन्दगी हैं खूबसूरत यार बस,

ना ज़िक्र तुम करना मिरे हालात का।

 

वो छोड़ कर तुझे गया तो क्या हुआ,

ग़म किसलिए करना ज़रा सी बात का।

 

*उज्जैन

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां