Subscribe Us

ज़िन्दगी इतनी उदास क्यूं है



*प्रो.शरद नारायण खरे


ज़िन्दगी इतनी उदास क्यूं है
भटकती हुई-सी आस क्यूं है ।

सब कुछ है दिखावटी,नकली,
खोखला इस कदर हास क्यूं है ।

दूर-दूर तक है फैली खामोशी,
ग़मगीन हर दिवस,मास क्यूं है ।

शंका के बादल छाये गगन पर,
सिसकता यहां विश्वास क्यूं है ।

कितने हैं ज़िन्दा,कहना कठिन,
चलती-फिरती हर लाश क्यूं है ।

दोरंगी हो गई हैं अब हवाएं,
सच में फरेब का वास क्यूं है ।

रोटी की कमी नहीं है तो भी,
खा रहा आदमी घास क्यूं है ।

ज़मीं पर रहते,पर उड़ते 'शरद',
सबको भाता आकाश क्यूं है।


*प्रो.शरद नारायण खरे,मंडला(मप्र)


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां