Subscribe Us

वो पावस की रात आज 



*पूजा झा


वो पावस की रात आज 
घिर - घिर के फिर आयी है,
उम्मीदों के नए छोड़ से
नव प्रभात की लाली है,
सीमाहीन क्षितिज के मुख पर
क्यों उदासी के बादल हैं?
भूल गया पतझड़ बीतेगा
जब आएगा वो बसंत।


काली रात घिर आयी तो क्या
अंधियारा कुछ पल का है
भोर की लाली की बेला में,
स्वर्णिम  कुछ पल मेरा है
कभी तो गूँजेगी जीवन के
उपवन में मेरे संगीत
जब आएगा वो बसंत।


ख़्वाबों की तप से मेरी
मुखमंडल की शोभा गहरी,
दर्पण के आगे प्रतीत यूं
जैसे खुद की नजरें ठहरीं,
अरमानों की लिबास ओढकर
जैसे हो कोई नई-नवेली
भर के नैनों में प्रसंग
जब आएगा वो बसंत।।


*पूजा झा,हाजीपुर,जंदाहा


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां