Subscribe Us

साथ होती  हर इक खुशी अपनी



*हमीद कानपुरी


साथ होती  हर इक खुशी अपनी।

सोचते  गर   भली  बुरी   अपनी।

 

हाँकते  सब  बड़ी  बड़ी  अपनी।

कोई  कहता  नहीं कमी  अपनी।

 

आ  लगा  है  वबा गहन  उसको,

अब खुशी भी नहीं खुशी अपनी।

 

हाल   बेहाल   देश   का ‌  इतना,

आँख  में  आज  है नमी अपनी।

 

चीखती   बेबसी   फिरे   हर  सू,

कह रहे हैं   कि है  सदी  अपनी।

 

साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां