Subscribe Us

दिल को मिरे तू कैद से आजाद कर



*आयुष गुप्ता 


दिलबर न मुझको और अब तू याद कर,

दिल को मिरे तू कैद से आजाद कर।

 

तू रुक सके तो लौट कर आ जा सनम,

ना रुक सके तो वक़्त ना बर्बाद कर।

 

ना हो सकेगा शख़्स वो तेरा कभी,

भूला सके तू बस यही फरियाद कर।

 

होगी उदासी चेहरे पे कब तलक,

भुलकर उसे तू ज़िन्दगी दिलशाद कर।

 

बस ज़िन्दगी में एक वहीं पहलू न था,

तू मंज़िलों से ज़िन्दगी आबाद कर।

 

*आयुष गुप्ता ,उज्जैन

 


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां