Subscribe Us

अलग ये बात है चर्चा नहीं था



*बलजीत सिंह बेनाम


अलग ये बात है चर्चा नहीं था
मगर महलों में क्या होता नहीं था


अमीरों के सुने किस्से बहुत से
हक़ीक़त में कोई वैसा नहीं था


मुझे सच ही कहा दुनिया ने अँधा
निग़ाहों पर मेरी पर्दा नहीं था


अजब दस्तूर था तेरे नगर का
किसी चेहरे पे भी चेहरा नहीं था


कहानी का हुआ अंजाम जैसा
ख़ुदारा इस तरह सोचा नहीं था


*बलजीत सिंह बेनाम,हाँसी


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.comयूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां