Subscribe Us

तुमने जिसको चाहा होगा



*बलजीत सिंह बेनाम


तुमने जिसको चाहा होगा
दिल उसका भी टूटा होगा


मिलने की इतनी बेचैनी
वादा करके भूला होगा


प्यार के बदले प्यार कहाँ अब
ऐसा पहले होता होगा


आँखें सपने देख रही हैं
आँखों को फिर धोखा होगा


सब कुछ छोड़ा रब पर मैंने
उसने अच्छा सोचा होगा


*बलजीत सिंह बेनाम


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/ रचनाएँ/ समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखे-  http://shashwatsrijan.com


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां