Subscribe Us

आओ , गाएं  गीत  नया 


  


*अशोक ' आनन '

 

बीत  गया  सो  बीत  गया ।

आओ ,   गाएं  गीत   नया ।

 

छोड़ घृणा का राग पुराना ।

   गाएं प्यार का नया तराना ।

       आग लगा न पाए हृदय में -

            फूल अमन के हमें खिलाना ।

 

मनाएं , रूठ जो मीत  गया ।

आओ  ,  गाएं   गीत   नया ।

 

ज़हर हृदय में और न घोलें ।

    बोली  शहद  सरीखी  बोलें ।

         ऐसे  मौसम   देश  में  आएं   -

               भौंरे - तितली घर - घर डोलें ।

 

भरें , प्रेम - घट जो रीत गया ।

आओ ,   गाएं   गीत    नया ।

 

 

बापू का कोई  स्वप्न न टूटें ।

    कोई  हमारा  देश  न  लूटे ।

         हाथ सभी के आज थामकर -

               उर  पर  काढ़े  प्रेम के बूटे ।

 

याद  रहे , मन जो जीत गया ।

आओ  ,   गाएं   गीत    नया ।

 

स्वर्णिम  दिन हों, श्वेता रातें । 

     घर - घर हों सावन की बातें ।

           मौसम पर हो नज़र सभी की -

                  छुपकर जो कर न पाए घातें ।

 

भूलें ,  मौसम  जो पीत गया ।

आओ  ,   गाएं   गीत   नया  ।

 

हवा में घुला हो केसर - चंदन ।

    शीश झुका हो माटी का वंदन ।

          भेदभाव  की  दीवार गिराकर -

                दिल से दिल का हो अभिनंदन ।

 

 

गर्म रखें, रिश्ता जो शीत गया ।

आओ   ,    गाएं   गीत    नया ।

 

भूख़ , ग़रीबी , न  हो लाचारी ।

      न   पेट   की   हो   मारा मारी ।

           मुस्कान  खिले  हर  चेहरे  पर -

                  सुख की जग में हो बलिहारी ।

 

लौटाएं , समय जो ललित गया ।

आओ   ,    गाएं    गीत    नया ।

 

*अशोक ' आनन '

  मक्सी जिला - शाजापुर (म.प्र.)

 


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/ रचनाएँ/ समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखे-  http://shashwatsrijan.com



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां