Subscribe Us

रिश्ते निभाना सीखो



*राजीव डोगरा


रिश्ते बनाते हो तो
रिश्ते निभाना सीखो।
दिल लगाते हो तो
दिल लगाना सीखो।
जीवन मिला है तो
थोड़ा-थोड़ा मर कर
जीना भी सीखो।
वक्त के पन्नों पर
सब कुछ धीरे-धीरे
बदल सा जाएगा।
स्वयं को समझ कर
दूसरों को समझाना सीखो।
टूटते है दिल अक्सर
कांच की तरह
फिर भी दूसरों के दिल को
ज़रा बहलाना सीखो।


*राजीव डोगरा,ठाकुरद्वारा


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/ रचनाएँ/ समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखे-  http://shashwatsrijan.com


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां