Subscribe Us

एक और बहाना मिल गया




*अलका 'सोनी'*

 


कैंडल्स जलाने का एक और

बहाना मिल गया।

सड़क जाम कर चिल्लाने को

यार, जमाना मिल गया।

 

पूछो जरा जाकर उनसे

क्या गुजर रही है ??

तमाशबीनों को देखने को

एक और तमाशा

मिल गया।

 

अफसाना बन कर रह गया

उनके लिए,

साथ प्यारी बिटिया का अब।

पल- पल पीने को ज़हर

पुराना मिल गया।

 

नाज़ों से पालकर किया

होगा बड़ा उसको भी,

कफ़न आज उसके लिए ही,

सिलाना पड़ गया।

 

 

*अलका 'सोनी'

बर्नपुर, पश्चिम बंगाल






 






अब नये रूप में वेब संस्करण  शाश्वत सृजन देखे

 









शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-


अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com


या whatsapp करे 09406649733






















टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां