Subscribe Us

तो याद आता है बचपन



*खुशबू *


जब देखती हूं 

नन्ने मुन्ने बच्चों को खेलते हुए 

तो याद आता है बचपन।

जब आता है बालदिवस

तो याद आता है बचपन।

जब देखती हूँ

मां की गोद में बैठे हुए बच्चों 

को याद आता है बचपन।

जब देखती हूँ

बच्चों को अपनी मां के हाथ से

खाना खाते हुए

याद आता है बचपन।

जब देखती हूं 

बच्चों को आंगन में 

किलकारी मारते हुए 

तो याद आता है बचपन।

जब देखती हूं

बच्चों को खुशी से नाचते हुए

तो याद आता है बचपन।

 

*खुशबू 

9वी कक्षा की छात्रा 

गवर्नमेंट हाई स्कूल ठाकुरद्वारा।

 





















शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-


अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com


या whatsapp करे 09406649733







टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां