Subscribe Us

कौन तकता है बार-बार किसे



*नवीन माथुर पंचोली*


कौन तकता है बार-बार किसे।

इस क़दर राहे  इंतज़ार  किसे।

 

अपनी आँखों में कुछ नमी लेकर,

यूँ  रुलाता   है  जार-जार किसे।

 

जब   निभाये  हैं  वास्ते  उसने,

फिर  जताता  है  एतबार किसे।

 

ख़ुद छुपाता है ग़म सभी अपने,

और कहता   है राज़दार  किसे।

 

रात की नींद ,  चैन  सब  खोया,

दे दिया उसने अपना प्यार किसे।

 

*नवीन माथुर पंचोली,अमझेरा धार,मप्र  मो.9893119724

 





















शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-


अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com


या whatsapp करे 09406649733







टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां