Subscribe Us

जो अब तक मुझे,नित कहर-सी लगी




*प्रो.शरद नारायण खरे*

जो अब तक मुझे,नित कहर-सी लगी ।

यकायक वो झिरिया,नहर-सी लगी ।

 

था बेनूर आलम,उजड़ा था उपवन,

वो प्यारा-सा नग़मा,बहर-सी लगी ।

 

जो रातों की स्याही,अमावस के पल थी,

वो पूनम का चंदा,सहर-सी लगी ।

 

नहीं कोई रौनक,नहीं थी मुहब्बत,

यकायक महल-सी,वो घर-सी लगी ।

 

मिरी भूल थी,उसको समझा नहीं था,

थी यह ही वज़ह ,वो ज़हर-सी लगी ।

 

बनी रुह की ताक़त,'शरद' हौसला वो,

मैं उड़ लूं गगन में,वो पर-सी लगी ।

 

*प्रो.शरद नारायण खरे,मंडला(मप्र)

 






















शब्द प्रवाह में प्रकाशित आलेख/रचना/समाचार पर आपकी महत्वपूर्ण प्रतिक्रिया का स्वागत है-


अपने विचार भेजने के लिए मेल करे- shabdpravah.ujjain@gmail.com


या whatsapp करे 09406649733







टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां