Subscribe Us

मेधावी विद्यार्थियों का सम्मान समारोह आयोजित


गुरुग्राम। साहित्यिक एवम सामाजिक संस्था "परम्परा" द्वारा रविवार15 सितम्बर को सेक्टर-4 स्थित सी सी ए स्कूल में मेधावी विद्यार्थियों का सम्मान समारोह आयोजित किया गया। कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में आकाशवाणी, दिल्ली के पूर्व उप महानिदेशक एवम वरिष्ठ साहित्यकार लक्ष्मी शंकर बाजपेई तथा विशिष्ट अतिथि के रूप में गीत/ग़ज़लकारा ममता किरण उपस्थित रहे। अध्यक्षता रही सी सी ए स्कूल की प्रधानाचार्या निर्मल यादव की। 

कार्यक्रम का शुभारंभ मंचासीन अतिथियों द्वारा दीप प्रज्ज्वलित करने के पश्चात स्कूल की ही नन्हीं छात्राओं द्वारा प्रस्तुत गणेश वंदना नृत्य से हुआ। सभी मंचासीन अतिथियों का स्वागत माल्यार्पण, अंगवस्त्र एवम प्रतीक चिन्ह से किया गया । 

कार्यक्रम में छात्र-छात्राओं को प्रतीक चिन्ह तथा उपहार आदि प्रदान करके सम्मानित किया गया। सम्मानित किए गए छात्र-छात्राओं के नाम इस प्रकार हैं। 12वीं कक्षा उत्तीर्ण- अंजलि सिंह, प्राची पाठक व अस्मिता चुघ तथा 10वीं कक्षा उत्तीर्ण- निकिता गुप्ता, संदेश यादव, हर्ष कुमार, विहान कपूर, मोहित यादव, पीयूष अग्रवाल, सौदीप दत्ता,हरपुनीत सिंह, अंशिका, हर्ष वशिष्ठ, याशिका शर्मा व अंशुल। इसके अतरिक्त गणेश वन्दना प्रस्तुत करने वाली छात्राओं छवि डबास, पूर्णिमा पाराशर, जान्ह्वी गुप्ता, प्रिया नारंग व गीत वाधवा को भी प्रतीक चिन्ह प्रदान किये गए। इसके साथ ही इन बच्चों के माता-पिता तथा स्कूल की शिक्षिकाओं मीनू सचदेव, आशा नायर, हिमांशु अग्रवाल, बीना शर्मा एवम निशा रानी को भी सम्मानित किया गया।

गणमान्य अतिथियों में कृष्ण भारतीय, अशोक जैन, नरेन्द्र गौड़, सुरेन्द्र मनचंदा, इंद्रदेव गुप्ता,सुजीत कुमार, नीरज श्रीवास्तव, डॉ नलिनी भार्गव, सविता गुप्ता, दीपशिखा तथा राधा आदि साहित्यकारों के साथ-साथ बच्चों के अभिभावकों की गरिमामयी उपस्थिति रही। कार्यक्रम के आयोजन में मीनू सचदेव, प्रीति अग्रवाल तथा दिनकर यादव का प्रमुख सहयोग रहा।

 

अपने वक्तव्य में लक्ष्मी शंकर बाजपेई ने कहा कि इस प्रकार का ये उल्लेखनीय कार्यक्रम है जिसमें मेधावी विद्यार्थियों को सम्मानित किया जा रहा है। ममता किरण ने कहा कि यह एक अच्छी परम्परा है और इस प्रकार के आयोजन आगे भी होते रहने चाहिए। अपने अध्यक्षीय सम्बोधन में निर्मल यादव ने कहा कि स्कूल में साहित्यिक व सांस्कृतिक कार्यक्रम तो होते ही रहते हैं-किन्तु सम्मान समारोह सरीखा ये एक अनोखा आयोजन है। परम्परा के संस्थापक राजेन्द्र निगम "राज" ने कहा कि संस्था के बैनर तले इस प्रकार के अन्य कार्यक्रमों के साथ ही साहित्यिक कार्यक्रमों का भी आयोजन किया जाएगा। 

 

गोष्ठी में उपस्थित सभी कवियों ने अपने काव्य पाठ से समां बाँध दिया। अंत में परम्परा की संयोजिका इन्दु "राज" निगम द्वारा सभी का धन्यवाद करने के पश्चात राष्ट्रगान के साथ ही कार्यक्रम का समापन हुआ।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां