Subscribe Us

इंसान पहले इंसान, फिर हिंदू या मुसलमान(कविता)


                   -धर्मेन्द्र बम
राम करतार, थोमस या सलमान
इंसान पहले इंसान, फिर हिंदू या मुसलमान ।

मजहब नहीं कोई भेद बताता
आपस   में  है   प्यार  बढ़ाता
मानव  जीवन का करलें मान
इंसान पहले इंसान फिर हिंदू या मुसलमान ।

क्रोध   मान   माया   लोभ
शांति   के   है  ये  अवरोध
जीते इन्हे पूरे होंगे अरमान
इंसान पहले इंसान फिर हिंदू या मुसलमान।

मानव     है   मानव   बने
पतझर  नहीं   सावन बने
ईश कृति का करें सम्मान
इंसान पहले इंसान फिर हिंदू या मुसलमान।

 -धर्मेन्द्र बम
नागदा मो. 9424845093


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां