Subscribe Us

दिन के सफर में कोई मुझे यार न मिला(गजल)


*सुनील कुमार वर्मा ,'मुसाफ़िर'*
आये तेरे दीदार को दीदार न मिला,
टूटे हुये दिल को मेरे दिलदार न मिला।



मुझको बहुत गुरुर था अहबाब पे मेरे,
लेकिन मेरे मेयार का मुझे यार न मिला।



गुजरी है मेरी ज़िंदगी साकी के पहलू में,
लेकिन मुझे कतरा ए ख़ुमार न मिला।



बागे वफ़ा के वास्ते गुजरी है जिंदगी,
लेकिन मेरी वफ़ा का तरफदार न मिला।



आंखों का नूर बह गया उसकी तलाश में,
लेकिन मेरे नसीब का करतार न मिला।



कैसे कटी है रात "मुसाफ़िर" से पूछिये,
दिन के सफर में कोई मुझे यार न मिला।



*सुनील कुमार वर्मा ,"मुसाफ़िर "इंदौर, मो.9826492940


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां