Subscribe Us

मिलकर मनाओ होली

शिवकुमार दुबे

रंग में भंग
किया कोरोना ने
टेसू फूल गया
चेहरे खिल गए
होलिका सज गई
बैठ गई ढेर में लकड़ी के
गोदी में प्रह्लाद सत्य की
जीत पर
अंगारो से जल गई
होलिका
रंगो की बहार आ गई
छोटे बड़े सब रंगों में सराबोर
फुहारों में समा गई मस्तियां
कुछ मदमस्त हो कुछ मार्यादित
खेल रहे होली कुछ पिचकरियो
से फैला रहे रंगों की बहार
सब मिलकर लगा रहे तिलक
गुलाल का भाईचारा का ये त्योहार
सब को कर रहा हर्षोलाह
पर बच के रहो कारोना से
बनाओ दूरी दूर से ही
करो प्यार और फेको फुहार
प्यार की बरसाओ रंग प्यार का
चहुओर भगाओ कोरोना को
मिलकर मनाओ होली

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां