Subscribe Us

कहानी अपनी जुबानी


रोहिणी तिवारी

फिर अपनी आँखों में नए सपने सजाकर,
उम्मीदो से भरा आँचल ओढ़कर ,
हौसलों की नयी उड़ान भरकर,
लब्जो में अपने गर्माहट भरकर ,
लड़खड़ाते हुए कदमो को एक नयी दिशा देकर ,
निकली हु राहो में नयी रोशनी को लेकर ,
एक चमकते सवेरे के इंतज़ार में,
सूरज कि किरणो कि चाह में ,
मंद - मंद एक मुस्कान है होठो पर ,
खिलती हुई खिलखिलहट सी ,
गुलशन है जिन दम से मेरा कारवां ,
दिल बाग़ बाग़ है जिन तम्मनाओ से मेरा,
कांटे भी पुष्प बनते चले गए,
जिन संघर्षो से रोशन है रास्ता मेरा ,
एक कश्मकश सी आज दिल में फिर उठी,
दस्तानो में छिपी एक नयी कहानी ,
इन कहानियो को अपने लब्जो से कहकर,
फिर एक नया इतिहास रचने,
मेरी कहानी कई शिखाओं को छूकर,
बया करने लगी मेरी कहानी अपनी जुबानी !!

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां