Subscribe Us

कैसे खेलूं फाग


प्रेम पथिक

काम लेने लग गए है दिमाग से
लोग खेलने लग गए है आग से

सौ गुनाह कम है बेशर्म के लिए
मर जाता है शरीफ एक दाग से

इस काबिल तो नही लगता है वो
छीका टूट गया बिल्ली के भाग से

माना हजार ऐब उसमें छुपी हुई
सीखो चतुराई का हुनर काग से

जहर देकर किसी ने मारा होगा
उसके मुँह से आ रहे है झाग से

अब कहाँ उस्ताद कहाँ शागिर्द वैसे
इन दीपकों को जो जला दें राग से

अंधेरे में ये सोचकर रहने लगा हूँ
कहीं घर जल न जाए चिराग से

न वो दोस्त न वो रंग न वो गालियां
पथिक बताओ कैसे खेलूं फाग से

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां