Subscribe Us

वो गुजरा हुआ बचपन


वर्षा वार्ष्णेय

वो गुजरा हुआ बचपन
आज भी याद आता है
जो छूट गया है गाँव
आज भी नजर आता है

होलों को जलती आग में
भूनकर सबके साथ खाना
वो गेहूँ की बाल के साथ
खुद भी मस्ती में झूम जाना

लगता था सारा गाँव ही हो
जैसे बाबा का बसेरा
वो उँगलियों की कोर से
घूँघट में से मुखड़ा दिखाना

बरसों बाद भी सबका
अपार स्नेह का मिलना
वो जा रही है देखो फलाने
बेटे की सुंदर सी गुड़िया

सुनकर प्यार के मीठे बोल
दिल में खुशी का छा जाना
जाने क्यों आज भी रुलाता है
वो गाँव की ठंडी बयार का आना

वो लहलहाते पेड़ और बालियां
वो अम्मा का घर के चबूतरे पर
मीठी बातों के साथ बीज नुकाना
आज भी याद आता है चूल्हे के
सामने बैठकर गर्म रोटी खाना

खो गया आज जाने कहाँ, कैसे
खुशियों का वो बेजोड़ जमाना
जहाँ थी सिर्फ परिवार के साथ
मिल बैठने की धुन नाचना गाना

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां