Subscribe Us

21वीं सदी के 251 अंतर्राष्ट्रीय श्रेष्ठ व्यंग्यकारों का संकलन का प्रकाशन

उज्जैन के बारह व्यंग्यकार अंतरराष्ट्रीय स्तर पर पहुंचे

उज्जैन। व्यंग्य की उर्वरा भूमि कहे जाने वाले उज्जैन के बारह व्यंग्यकारों ने अंतर्राष्ट्रीय व्यंग्य संकलन में अपनी जगह बनाई है। 21वीं सदी के 251 अंतर्राष्ट्रीय श्रेष्ठ व्यंग्यकारों का संकलन इंडिया नेट बुक्स नोएडा द्वारा प्रकाशित किया जा रहा है । इसमें उज्जैन के व्यंग्यकार सर्वश्री डॉ पिलकेन्द्र अरोरा, डॉ हरीशकुमार सिंह, रमेशचन्द्र शर्मा,डॉ देवेंद्र जोशी ,राजेंद्र नागर 'निरंतर', राजेन्द्र देवधरे दर्पण ,शांतिलाल जैन,स्वामीनाथ पांडे, संदीप सृजन, मीरा जैन,कोमल वाधवानी प्रेरणा एवं कमलेश व्यास कमल का चयन उज्जैन के लिए गौरवमयी उपलब्धि है। मारीशस, अमेरिका ,यूके, नेपाल, कनाडा ,न्यूजीलैंड, ऑस्ट्रेलिया एवं दुबई के व्यंग्यकार भी इस संग्रह में शामिल किए गए हैं ।इस संग्रह का संपादन डॉ लालित्य ललित एवं प्रो . राजेशकुमार ने किया है । सदी के सर्वश्रेष्ठ व्यंग्य संचयन जिसमें देश और विदेश के व्यंग्यकारों की 251 रचनाओं का चयन किया गया है जिसे तैयार करने का श्रेय जाता है व्यंग्य विधा के सर्वाधिक सक्रिय व्यंग्यकार डॉ लालित्य ललित व सुपरिचित व्यंग्यकार डॉ राजेश कुमार को।


डॉ हरीशकुमार सिंह ने बताया कि इस संकलन को तैयार करने के दौरान मॉरीशस में स्थित विश्व हिंदी सचिवालय ने विश्व को पाँच हिस्सों में बाँटकर अंतरराष्ट्रीय व्यंग्य लेखन प्रतियोगिता का आयोजन किया और उन विजेताओं में से सभी प्रथम स्थान प्राप्त करने वाले व्यंग्यकारों तथा और भी अन्य विजेताओं की रचनाएँ इस संकलन में हैं। ये रचनाकार हैं- कुसुम नैपसिक (अमेरिका), मधु कुमारी चौरसिया (युनाइटेड किंगडम), वीणा सिन्हा (नेपाल), चांदनी रामधनी‘लवना’ (मॉरीशस), राकेश शर्मा (भारत) जिन्होंने प्रथम पुरस्कार जीते और आस्था नवल (अमेरिका), धर्मपाल महेंद्र जैन (कनाडा), रोहित कुमार 'हैप्पी' (न्यूज़ीलैंड), रीता कौशल (ऑस्ट्रेलिया) ने अन्य पुरस्कार हासिल किए। इनके अलावा विदेश से शामिल होने वाले व्यंग्यकार हैं- तेजेन्द्र शर्मा (युनाइटेड किंगडम), प्रीता व्यास (न्यूज़ीलैंड), स्नेहा देव (दुबई), शैलजा सक्सेना, समीर लाल 'समीर' और हरि कादियानी (कनाडा) एवं हरिहर झा (ऑस्ट्रेलिया)। इन व्यंग्यकारों की भागीदारी से यह संकलन सही मायनों में अंतरराष्ट्रीय संकलन बन गया है।इस संकलन में 19 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के व्यंग्यकारों ने शिरकत की है। इनमें से सबसे अधिक व्यंग्य के पुरोधा हरिशंकर परसाई के राज्य मध्य प्रदेश (65) से हैं। इसके बाद क्रमशः हैं- उत्तर प्रदेश (39), नई दिल्ली (32), राजस्थान (32), महाराष्ट्र (18), छत्तीसगढ़ (12), हिमाचल प्रदेश (8), बिहार (6), हरियाणा (4), चंडीगढ़ (3), झारखंड (4), उत्तराखंड (4), कर्नाटक (4), पंजाब (2), पश्चिम बंगाल (2), तेलंगाना (2), तमिलनाडु (1), गोवा (1) और जम्मू-कश्मीर (1)।


अगर हम स्त्री और पुरुष लेखकों की बात करें तो इसमें 51 व्यंग्य लेखिकाएँ शामिल हुई हैं। इस बहु-प्रतीक्षित व्यंग्य संचयन में डॉ सूर्यबाला, हरि जोशी, हरीश नवल, सुरेश कांत, सूरज प्रकाश, प्रमोद ताम्बट, जवाहर चौधरी, अंजनी चौहान, अनुराग वाजपेयी, अरविंद तिवारी, विनोद साव, श्याम सखा श्याम, रमेश सैनी, सुधाकर अदीब, स्नेहलता पाठक, स्वाति श्वेता, सुनीता शानू में शामिल हैं।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां