Subscribe Us

खुली आँख से ख़्वाब देखा करेंगे


हमीद कानपुरी
खुली आँख से ख़्वाब देखा करेंगे।
उन्हें हर तरह मिल के पूरा करेंगे।

सही बात कहना तो जारी रहेगा,
न बेजा मगर कोई शिकवा करेंगे।

सजाते रहेंगे सजाते रहे हैं,
चमनमें सुमन बन केमहका करेंगे।

वतन के लिए जान देंगे यक़ीनन,
वतनको कहींभी न‌ रुसवा करेंगे।

अदू चढ़के आया जो अब सरहदों पर,
उसे बीच से चीर टुकड़ा करेंगे।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां