Subscribe Us

विधाता की निगाह में

आशीष तिवारी निर्मल

ये जिंदगी गुजर रही है आह में
जाएगी एक दिन मौत की पनाह में।

कर लो चाहे जितने पाप यहां
हो हर पल विधाता की निगाह में।

मेरी कमी मुझे गिनाने वाले सुन
शामिल तो तू भी है हर गुनाह में।

छल प्रपंच से भरे मिले हैं लोग
दगाबाजी मुस्काती मिली गवाह में।

खोने के लिए कुछ भी शेष नहीं
सब खोये बैठा हूं किसी की चाह में।

आंखों में छिपे हैं राज बड़े ही गहरे
इतनी जल्दी पहुंचोगे नहीं थाह में।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां