Subscribe Us

विरासत संरक्षण में इंटेक की अपनी विशेष पहचान है - श्री पवार

जमीकंद महोत्सव 

जमीकंद स्वाद ही नहीं इम्युनिटी के भी लिए भी आवश्यक है


भारत की कला संस्कृति और विरासत बहुत समृद्ध और व्यापक है। इंटेक ने अपनी स्थापना से लेकर आज तक विरासत संरक्षण में बहुत अच्छा कार्य किया है। कला, संगीत आयोजन और विरासत संरक्षण में इंटेक धार चैप्टर की अपनी अलग पहचान है। इंटेक के आयोजन का समय पर आंरम्भ होना व समय पर समाप्त होना उल्लेखनीय है। यह विचार पूर्व विधायक एवं इंटेक के वरिष्ठ सदस्य श्री करन सिंह पवार ने दीपावली मिलन समारोह एवं सदस्यता सामग्री वितरण कार्यक्रम में व्यक्त किए।
*जमीकंद महोत्सव*
मिलन समारोह का आकर्षण जमीकंद महोत्सव था। जमीकंद महोत्सव के बारे में बताते हुए इंटेक धार चैप्टर के संयोजक डॉ दीपेंद्र शर्मा ने कहा कि जमीकंद हमारे भोजन का अभिन्न अंग है और कोरोना वायरस में इम्युनिटी बढ़ाने और स्वस्थ रखने में उनकी बहुत महत्वपूर्ण भूमिका है। पहले जनजातीय स्वाद में दाल पानिये, दूसरे में दादी नानी की बेसन चक्की, तीसरे में खिचड़ी व इस चौथे आयोजन में जमीकंद को प्रधानता दी है। जमीकंद महोत्सव में अदरक, गराडू, रतालू , शलजम, मूली, गाजर, लहसन और आलू को प्राथमिकता दी गई। जिसे आमंत्रित सदस्य द्वारा काफी सराहा गया। डॉ शर्मा ने वर्ष 21 के प्रमुख कार्यों की योजना से सदस्यों को अवगत करवाया। जमीकंद महोत्सव के विशेष अतिथि पूर्व उप संचालक सामाजिक न्याय विभाग श्री प्रमोद टोंग्या ने इंटेक की कार्यशैली की सराहना की और समाज के हर वर्ग तक पहुंचने के लिए इंटेक के आयोजनों का महत्व बताया। कार्यक्रम की अध्यक्षता मानवाधिकार आयोग के जिला समन्वयक श्री अशोक चंद्र जोशी ने की।
*संगीत सभा*
महोत्सव के पहले चरण में संगीत सभा हुई जिसमें लोकप्रिय गीत भजनों के माध्यम से कलाकार श्री अंकित ब्रह्मभट्ट ने सभी का दिल जीत लिया। "छाप तिलक मौसे छीनी नैना मिलायके" से "ए री सखी मंगल गाओंरी" तक में कई मशहूर गीत ऐसे गूंजे की पूरा सदन हम स्वर होता रहा। तबले पर संगत शिवम मालवीय और की बोर्ड पर अमन दुबे थे। कलाकारों का स्वागत और अभिनंदन संस्कार भारती के अध्यक्ष श्री रितेश पांडे, सुपर सिटी प्लस के संयोजक श्री दुर्गेश नागर और सिख समाज के प्रधान श्री हरजीत सिंह होड़ा ने किया।
*सदस्यता सामग्री*
श्रीमती नंदिताराजे पवार व अतिथियों ने इंटेक के नवीन आजीवन सदस्यों कलाकार श्रीमती रुचि नायकवाड़े, कवयित्री वंदना दुबे, सामाजिक कार्यकर्ता मीनाक्षी लहरे, श्रीमती भारती कराले, संजय सोनी, उपभोक्ता फोरम की पूर्व सदस्य श्रीमती हर्षा रुनवाल, शिक्षाविद शोभा टोंग्या, पूर्व उपसंचालक शिक्षा जयंत जोशी व समाजसेवी श्वेता मोहिते को इंटेक प्रतीक, फोटो परिचय पत्र, राष्ट्रीय अध्यक्ष मेजर जनरल एल के गुप्ता जी का पत्र व रसीद भेंट की। कड़ाके की ठंड के बाद भी 75 सदस्य व आमंत्रित उपस्थित रहे। आभार निकिता भवानी जोशी द्वारा किया गया। जमीकंद पूरित सहभोज से महोत्सव का समापन हुआ। यह जानकारी मीडिया प्रभारी श्री राकी मक्कड़ ने दी।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां