Subscribe Us

बैंक एफडी

आशीष तिवारी निर्मल
राजमोहन गांव के बड़े जमींदार थे।गांव वालों की नजर में उनकी छवि सदा ही एक सम्मानित एवं साफ सुथरी व्यक्ति की रही। राजमोहन हमेशा ही दीन, हीन, भिक्षु, विकलांग वा आमजन के प्रति उदार भावना रखते थे। खुशियां सबसे बांट लेते लेकिन दुख दर्द अकेले ही झेल जाते थे। इसके पीछे उनका निजी दृष्टिकोण था। राजमोहन का बड़ा बेटा राधे घर में रहकर घर के काम खेती,किसानी में हाथ बंटाता था। एक दिन राजमोहन अपने बड़े बेटे के साथ घर में बैठे कुछ विषयों पर बात ही कर रहे थे, कि गांव के ही एक व्यक्ति राजबली अचानक आ पहुंचे ।राजबली के चेहरे और हाव भाव को देखकर ही राजमोहन समझ गये कि हो ना हो इनको किसी तरह की मदद की जरूरत है। इसलिए अचानक ये हमारे पास आये....। राजमोहन बिल्कुल भी देरी ना करते हुए राजबली को बैठने को कहते हुए बोले- कहिए कैसे आना हुआ?? राजबली परेशानी भरे स्वर में बोले- कि एक लाख रुपए के बिना छोटे बेटे की डाक्टरी की पढ़ाई रुक जाएगी। उसके भविष्य का सवाल है यदि एक लाख रुपए की तत्काल में मदद आप कर दें तो बड़ी कृपा होगी। शीघ्र ही वापस कर दूंगा। राजमोहन मना नहीं कर सके और बोले कि , ठीक है। राजबली आप आज शाम को आकर पैसे ले जाना। राजमोहन अपने बड़े बेटे राधे से बोले कि गाड़ी निकालो मुझे साथ लेकर बैंक चलो । बैंक में जो पैसे एफडी कर रखे हैं। बेटी की शादी के लिए , उनमें से एक लाख रुपए एफडी तोड़ कर राजबली को देना है।राधे पिता के इस फैसले से नाराज़ हुआ। लेकिन कुछ बोल नहीं पाया।राधे के मन में यही चल रहा था कि आखिर बहन की शादी के लिए जो पैसे बैंक एफडी में है उसको तोड़कर किसी की मदद करना सही नहीं है। फिर भी पिता के निर्णय के सामने राधे कुछ नहीं कर सका। पिता- पुत्र बैंक जाकर एफडी तोड़ कर पैसे ले आए, और शाम को राजबली को वह पैसे उनके बेटे की फीस भरने के लिए दे दिए।ठीक एक हफ्ते में राजबली वह पैसा वापस लौटाने के लिए राजमोहन के घर आए ,और एक लाख रुपए पास खड़े राजमोहन के बेटे राधे के हाथ में देते हुए बोले - कि बहुत-बहुत आभार राजमोहन जी आपने बड़े समय में यह पैसे मुझे दिए मेरी मदद की आपने‌। वरना इतने से पैसे के लिए मुझे अपनी बैंक एफडी तुड़वानी पड़ती जो कि मुझे उचित नहीं लग रहा था और आपकी मदद ली मैं ने। इतना सुनते ही राजमोहन और उनका बेटा राधे आवाक रह गए। पिता पुत्र एक दूसरे की तरफ देखते हुए खुद को ठगा सा महसूस कर रहे।

टिप्पणी पोस्ट करें

1 टिप्पणियां

  1. बहुत अच्छी संदेशप्रद कथा। ऐसे स्वार्थी लोगों की वजह से दूसरे जरूरतमंद लोगों पर से भरोसा उठ जाता है और फिर हम उनकी सहायता करने से कतराने लगते हैं। बहुत-बहुत साधुवाद।

    जवाब देंहटाएं