Subscribe Us

नए वर्ष में नई पहल हो,कठिन ज़िंदगी और सरल हो

गोपाल कृष्ण पटेल,जांजगीर
नये साल का अर्थ है नई उम्मीद नए सपने और नए लक्ष्य। फिर से कुछ अच्छे प्रयास किए जाएं ताकि घर परिवार और समाज खुशहाल हो सके। इन्हीं बातों को ध्यान में रखते हुए हम एक दूसरे को शुभकामनाएं देते हैं ताकि आने वाला नया साल सबके लिए सुख-समृद्धि से भरपूर ढेरों अवसर लाए। प्रत्येक वर्ष नए साल के अवसर पर हम सभी को उम्मीदें होती है कि ये वर्ष हमारे लिए काफी अच्छा साबित होगा तथा हम सभी नया साल नई उम्मीदों, नई इच्छाओं, नई आशाओं तथा नई संभावनाओं को तलाशने के एक खूबसूरत मौका होता है।
2020 सिर्फ भारत के लिए नहीं बल्कि पूरे विश्व के लिए बहुत बुरा रहा कोरोना का कहर पूरे देश को हिला के रख दिया। अपनी तमाम कोरोना जैसी भयानक महामारी की यादों के साथ 2020 अतीत का हिस्सा बनने से चंद कदम दूर है। पुराना जाएगा तो नया आएगा। अब 2021 का पदार्पण होगा। आइए नयी ऊर्जा, आशा और उत्साह के साथ इसका स्वागत करें। कोरोना महामारी को नियम से सामना करते हुए मास्क पहनकर सामाजिक दूरी बनाकर नय साल का स्वागत करें। हर ओर नया और सकारात्मक देखें। सभी चेहरे को नयी नजर से देखें। हर चीज में नयापन तलाशें। नयी प्रेरणा से देखें। नयी आशा से देखें। नयी राह की ओर देखें। नये सपने देखें, मार्ग बनाएं और उस ओर चलना शुरू करें। इच्छाशक्ति को प्रबल करें। पाखंड का त्याग करें। भरोसा करें, भरोसे लायक बनें। विश्वास करें, विश्वास जीतें। अपनी गरिमा समझें, दूसरे की अहमियत समझें। 
नये साल में जरूरी हैं संकल्प - नये वर्ष के लिये संकल्प लें सच्चाई का पर्यावरण के निर्माण का, नया समाज और नया भारत के निर्माण का, स्वस्थ्य एवं सुंदर समाज के निर्माण का एवं संगठित परिवार का। सृजन की योजना बनाएं। युवाओं के रोजगार का मार्ग प्रशस्त हो। व्यापार में चल रहा उथल-पुथल समाप्त हो। किसानों के लिए सकारात्मक माहौल बने। स्वच्छ भारत बने। कला-संस्कृतियों की रक्षा हो। विकास का मॉडल बाजारवाद पर हावी न हो। शहरी-ग्रामीण जीवन स्तर, अमीर-गरीब के बीच खाई चैड़ी न होने पाये। सबके सम्मान, आत्मनिर्भरता की रक्षा हो। 
दिन बदला, रात बदली और कैलेंडर बदलने के साथ ही शुरू हो गया नया साल...! जानते हो प्रतिवर्ष आने वाला नया साल हम सभी के लिए नई उमंगे, नया उत्साह और नया तराना लेकर आते हैं। लेकिन हम हैं कि रोजाना की तरह नए दिन को वैसा ही मान कर ब‍ीता देते है। बच्चों, क्या तुम्हें लगता है कि, हमें हर दिन की तरह नए दिन को भी ऐसे ही खत्म कर देना चाहिए।
नहीं! बिलकुल भी नहीं....।
हमें तो नए साल के साथ एक नया वादा अपने आपसे करना चाहिए। अपने माता-पिता, टीचर्स, छोटे-बड़े भाई-बहन, दादा-दादी, अपने मित्र, पड़ोसी तथा प्रकृति, पशु-पक्षी एवं अन्य सभी से करना चाहिए और वह है, संकल्प का वादा....।
हमें इस नए साल के लिए ईश्वर का धन्यवाद देना चाहिए। अपने माता-पिता को पढ़-लिखकर अच्छा बड़ा इंसान बनने का, नई किताबें पढ़ने का, छोटे भाई-बहनों का ध्यान रखने का, दादा-दादी, नाना-नानी की सेवा करने, टीचर के बताए मार्ग पर चलने का, अपने मित्रों की मदद तथा पड़ोसियों की समयानुसार देखभाल, प्रकृति तथा जीव-जंतुओं के प्रति उदारता बनाए रखने का वादा करना चाहिए।
बच्चों, इस वादे को तुम हमेशा अपने मन में बनाए रखना। फिर उसी वादे के अनुरूप अपने संस्कारों को अपने व्यवहार में लाना ‍चाहिए। तभी हमारा नया साल मनाना सार्थक सिद्ध होगा....। तो आओ, हम सब मिलकर नए साल का स्वागत करें और अपने वादे पर कायम रहने का दृढ़ संकल्प लें, ताकि हमारा हर दिन जीवन में नया उजाला लेकर आएं...।
आज पूरे वर्ष के लिए शुभ घड़ी की योजना बनाएं। प्रयास करें कि हर दिन, हर सप्ताह, हर महीना सकारात्मक हो। ऊर्जादायक हो। स्वस्थ्य हो। सामर्थ्यवान हो। हर घड़ी शुभ फलदायी होगी, तो पूरा वर्ष यादगार बन जायेगा। आज से अपने को बदलें। बदलते वक्त से साथ बदलें। बदलते तकनीक के साथ बदलें। हर दिन अपटूडेट हों। एक नई सुबह इस नए साल में हमारे स्वागत के लिए खड़ी हो बस इसी आशा के साथ आप सभी को नए साल के नई सुबह की हार्दिक शुभकामनाएं।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां