Subscribe Us

रचनाकार साहित्यिक एवं सांस्कृतिक मंच कोलकाता की मासिक काव्य गोष्ठी


हैदराबाद। स्व. दुर्गावती चौधरी स्मृति काव्य गोष्ठी , कोलकाता ही नहीं वरन पूरे भारत के साहित्य प्रेमियों को आकर्षित कर रही है। इस माह इस काव्य गोष्ठी में 30 कवियों ने सहभागिता की, अतः कार्यक्रम दो चरणों में 20 एवं 21 दिसम्बर को सम्पन्न किया गया। यह गोष्ठी प्रसिद्ध साहित्यकार, कवि, चिंतक और विचारक सुरेश चौधरी द्वारा अपनी माता जी की स्मृति में आयोजित की जाती है। यह 18 वीं और 19 वीं गोष्ठी सही मायने में अनुपम रही, काव्य के विभिन्न रंगों से सिंचित गोष्ठी के प्रथम चरण का संचालन गुरुग्राम से श्री यशपाल सिंह ने किया और अध्यक्षता काठमांडू से जे पी अग्रवाल ने की। उपस्थित कवियों में दिल्ली से पुनीता सिंह, चंचल हरेंद्र वशिष्ट, कामना मिश्रा, अनुराधा सिंह, दौसा से निर्मला शर्मा, टीकमगढ़ से मीनू गुप्ता, भोपाल से गीतेश्वर बाबू घायल एवं कोलकाता से मौसमी प्रसाद , संदीप गुप्ता, अल्पना सिंह, रविप्रताप सिंह, ज्योति जैन रहे। दूसरे दिन कार्यक्रम की अध्यक्षता कोलकाता की वरिष्ठ कवयित्री विद्या भंडारी ने की एवं संचालन रचना सरन ने किया। उपस्थिति रही जबलपुर से चंदा देवी स्वर्णकार, हैदराबाद से सरिता सुराणा, ज्योति नारायण, भावना पुरोहित, काठमांडू से जे पी अग्रवाल एवं कोलकाता से श्रद्धा टिबरेवाल, मीनू कनोडिया, नीता अनामिका, जूही जाह्नवी अग्रवाल, के के दुबे जी की। अध्यक्षा विद्या भण्डारी ने सभी कवियों को बधाई देते हुए कार्यक्रम की भूरि-भूरि प्रशंसा की। अंत में संयोजक सुरेश चौधरी ने किसानों की महत्ता बतलाते हुए वेदों का उल्लेख किया और कहा कि ऋग्वेद में चौथे मंडल में किसानों के महत्व को बताया गया है और उन्होंने किसान सम्मान में एक गीत सुनाया और सभी सहभागियों का आभार व्यक्त किया।


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां