Subscribe Us

तुम याद रहोगी


✍️आशीष तिवारी निर्मल



 

चले थे साथ मगर कहाँ लाकर छोड़ दिए, 

मैं परिंदा खामोश बैठा था,तुम झिंझोड़ दिए।

 

साथ तुम्हारे सब लगने लगा था सहज मुझे

अचानक अंतस तक तुम मुझको तोड़ दिए।

 

बदलकर मोहब्बत के मायने एक झटके में

खुशियों से दुख-दर्द की ओर मोड़ दिए।

 

मरने तक तुम याद रहोगी मुझको ऐ दोस्त, 

इन आंखों से अश्रु,तुम्हारे लिए निचोड़ दिए।

 

इतनी गवाही तो इतिहास भी देता है निर्मल, 

मोहब्बत को लोग साजिशन ही फोड़ दिए।

 

*लालगांव ,रीवा मध्यप्रदेश




 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब हमारे वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 





टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां