Subscribe Us

माँ गंगा का नीर है 


 

✍️श्याम सुन्दर श्रीवास्तव 'कोमल'

माँ कल्याणी जगत की, माँ है पावन नाम।

माँ के जैसा शुभ नहीं, कोई और सुनाम।

 

माँ गंगा का शुभ्रतम, है पावनतम नीर।

माँ की महिमा जग विदित, माँ होती गम्भीर।

 

माँ पावनतम तीर्थ है, बसते देव अनेक।

माँ का दर्शन कीजिये, जागे बुद्धि विवेक।

 

माँ ममता का सिन्धु है, माँ है सदा महान।

सदा चाहती माँ यही, सुखी रहे सन्तान।

                     

माँ काशी कैलाश है, सादर करूँ प्रणाम।

माँ के चरणों में सदा, होते चारों धाम । 

 

माँ स्तुति माँ प्रार्थना, सजदा और अजान।

रोजा की पाकीजगी, गीता और कुरान ।

 

*लहार,भिण्ड,म०प्र०

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब हमारे वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 




टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां