Subscribe Us

सिर पर मेरे हाथ धर,यूं ही बढ़ाते रहना मान



✍️सुशील कुमार 'नवीन'

 

चरण वंदन करता आज मैं, कर गुरु गुणगान,

सिर पर मेरे हाथ धर,यूं ही बढ़ाते रहना मान।

 

क्या वर्ण और क्या वर्णमाला, रह जाता मैं अनजान,

'अ' से अनार,'ए' से एपल की न हो पाती पहचान।

 

गिनती, पहाड़े, जोड़-घटा, न कभी हो पाती गुणा-भाग,

एक-एक क्यों बनें अनेक, बोध न हो पाता कभी ये ज्ञान।

 

क्या अच्छा, क्या बुरा  कभी न मैं ये जान पाता,

न दिखलाते सही डगर तो मंजिल न कभी पाता।

 

बीच भंवर हिचकोले खाती रहती मेरी जीवन नैया,

सागर पार निकलना कैसे, ये कभी न जान पाता।

 

अज्ञानता के तिमिर से प्रकाशपुंज बनाया मुझको,

भूल सकूंगा न कभी, गुरुवर जीवन में तुमको।

 

*हिसार

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां