Subscribe Us

पता नहीं हम क्या लिखते हैं


   
✍️सतीश 'बब्बा'
पता नहीं हम क्या लिखते हैं,
लिखने लायक लिखते हैं,
या पढ़ने लायक लिखते हैं,
या बिकने लायक लिखते हैं!

पता नहीं हम क्या लिखते हैं,
दिन भर रामदेव लिखते हैं,
या सुशांत को लिखते हैं,
या फिर मन की बातें लिखते हैं!

पता नहीं हम क्या लिखते हैं,
अभिव्यक्ति के परिणाम से डरते हैं,
या कानूनी दाँव पेंच से डरते हैं,
या फिर पैसों के लिए लिखते हैं!

क्यों नहीं लिख पाते वह बातें,
हल चलाते हलवाहा किसानों की,
क्यों नहीं लिखते भूँख से तड़पते,
फटेहाल बात उस गरीब की !

पता नहीं हम क्या लिखते हैं,
कूड़े कचड़े में बिकते हैं,
लिखने लायक नहीं लिखते हैं,
पढ़ने लायक ही लिखते हैं!!

*कोबरा, जिला - चित्रकूट, उत्तर - प्रदेश


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां