Subscribe Us

न जाने क्यों


✍️राजीव डोगरा 'विमल'


न जाने क्यों
खो सा गया है कही
मेरा मन।


न जाने क्यों
मिट्टी सा हो गया है
मेरा तन।


न जाने क्यों
टूट गया है,
उनकी याद में
ह्रदय का हर एक कण।


न जाने क्यों
बिखर गए है,
हर ख्वाब मेरे
फिक्र में उनकी हरदम।


*कांगड़ा हिमाचल प्रदेश


 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब हमारे वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां