Subscribe Us

मेरे घर का आईना



✍️रमाकान्त चौधरी

मुझे  देखकर  वो, हँसी  उड़ाता बहुत है।

मेरे घर का आईना,  चिढ़ाता बहुत है।

 

उसको पसंद  नहीं, चेहरे की झुर्रियां,  

अहसास  मुझको,  ये कराता बहुत है।

 

मेरी खामोशियाँ और बेबसी देखकर

वो  रोता  बहुत है,  रुलाता  बहुत  है।

 

हँसता है साथ मेरे, रोने पे रोता है  ,

अकेले में साथ ये निभाता बहुत है।

 

मुझसे  मेरा  हाल चाहता जानना है,

इसलिए मुझको वो सताता  बहुत है।

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब हमारे वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां