Subscribe Us

हिंदी भाषा



✍️सुजाता भट्टाचार्य
हिंदी भाषा की है यह परिभाषा,
इससे भारत के लोगों को है आशा।
इसके सरल-सहज स्वभाव ने बढ़ाई, इसे
सीखने की इच्छा बेतहाशा।
हर भारतीय के मन में जगाई इक आशा।।
अपना कर इसे हर प्रांत,हर व्यक्ति,
बढ़ा ली अपनी भाषा की शक्ति।
बोलने-लिखने की इसकी समरूपता,
बढ़ाए देश की यही तो एकता...
इस भाषा के हुए अनेकों दिग्गज,
जिन्होंने फहराया संस्कृति का ध्वज।
भारत की हर भाषा है निराली,
पर हिंदी भाषा बनी विश्व को जोड़ने की अधिकारी।।
इस भाषा के मुरीद हैं सब,
देशी-विदेशी माने इसे अपना रब...
अपनाकर इसे गर्वित हम सभी,
होता है हर्षित हर कोई इसे बोलकर कभी न कभी।
मन-मस्तिष्क में है छाई यह भाषा,
हां, हमारी हिंदी से सबको है बहुत आशा।

यही तो है देश की अभिलाषा,
इसकी उन्नति से मिलेगी,हम भारतीयों को दिला‌सा........
इसकी सुकृति है हमारी पिपासा.....

*नई दिल्ली


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब हमारे वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां