Subscribe Us

दूध  से  जो  कभी  जला  होगा


✍️हमीद कानपुरी

दूध  से  जो  कभी  जला  होगा।

छाछ  भी  फूँक  पी  रहा  होगा।

 

काम  छोटे  करो ज़रा  मिल कर,

काम  कोई    तभी  बड़ा   होगा।

 

साथ  चलता   न  जो  बुराई  के,

साथ  उसके  नहीं   बुरा   होगा।

 

तब लगेगा ज़रा अधिक दमखम,

हाथ  परचम  अगर  बड़ा  होगा।

 

कारवां छोड़ कर  गया  जो कल,

आज दर दर  भटक  रहा  होगा।

 

*कानपुर

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब हमारे वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 




टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां