Subscribe Us

वन्दे-मातरम् गाएंगे




✍️पुखराज पथिक 

देश की आजादी पर हम , तोहमत कभी न लगाएंगे ।

वन्देमातरम् गाया था ,फिर वन्दे-मातरम् गाएंगे ।

 

जब तक सूरज चाँद रहेगा, यह जश्न मनाते जाएंगे ।

भाई-चारा और प्रेम की दिल में,  शमा  नई जलाएंगे ।

 

नदियां कल-कल गाएंगी , और झरने बहते जाएंगे ।

भारतमाता की गोदी को ,फूलों से सजाएंगे ।

 

अमर शहीदों के बलिदान को ,हम कभी न भूलने पाएंगे,।

वक्त अगर जो आन पड़ा , तो अपनी जान लुटाएंगे ।

 

वन्दे -मातरम् गाया था, फिर वन्दे-मातरम् गाएंगे ।

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां