Subscribe Us

इंतकाम



✍️राजीव डोगरा 'विमल'

मैं पत्थर सा हुआ 

उनकी याद में,

वो तोड़ते रहे मुझे 

अपने इंतकाम में,

सोचा न उन्होंने कभी

कि बीते हुए वक्त में 

मैं कितना तड़पा हूँ 

उनकी याद में,

बस वो जख्म देते रहे मुझे

हँसते हुए अपने इंतकाम।

मैं लेकर मिट्टी का तन 

उड़ता रहा उनकी याद में 

और वो बनकर बवंडर

खिलवाड़ करते रहे मुझसे 

अपने ही इंतकाम में।

 

*कांगड़ा हिमाचल प्रदेश 

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां