Subscribe Us

गुमान दौलत का



✍️सरिता सुराणा

बड़ा गुमान था उसे

अपनी दौलत और शोहरत का

कमाई थी जो उसने

गरीबों का खून चूस-चूस कर

उनकी मजबूरियों का फायदा उठाकर

दस रुपए सैंकड़ा का 

ब्याज और पड़ ब्याज लेकर

फिर उसी दौलत से कमाई

शोहरत, समाजसेवी बनकर

जहां न जेब से पैसा लगता था

और न ही कुछ और

बस वीआईपी बनकर 

फीता काटना होता था

जगह-जगह होने वाले 

उद्घाटनों का

मगर कभी तो उसकी

किस्मत का भी

पटाक्षेप होना ही था

वह हुआ कोरोना की मार से

इस एक अदृश्य सूक्ष्म जीवाणु ने

पल भर में बदल दी

उसकी दुनिया

बहुत हाथ-पैर मारे उसने

अपनी पहुंच और 

ताकत के बल पर

बहुत दिखाया पैसे का जोर

मगर अफसोस!

नहीं खरीद सका वह 

जिन्दगी की सांसें

आखिर दगा दे गई 

उसे वह अपरिमित दौलत

छोड़ दिया अपनों ने ही साथ

अन्तिम समय में न ही मिला

दो गज कफ़न घर से 

और न ही किसी अपने का कांधा

आज इस अंतिम यात्रा पर

वह अकेला ही जा रहा था

न दौलत साथ थी और

न ही कोई रिश्तेदार

बस साथ था तो सिर्फ कोरोना

जिसने उसका घमंड 

चूर-चूर कर दिया था

उसे उसकी असली 

औकात दिखा दी थी।

*हैदराबाद

 


अपने विचार/रचना आप भी हमें मेल कर सकते है- shabdpravah.ujjain@gmail.com पर।


साहित्य, कला, संस्कृति और समाज से जुड़ी लेख/रचनाएँ/समाचार अब नये वेब पोर्टल  शाश्वत सृजन पर देखेhttp://shashwatsrijan.com


यूटूयुब चैनल देखें और सब्सक्राइब करे- https://www.youtube.com/channel/UCpRyX9VM7WEY39QytlBjZiw 



टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां